ऐसी वाणी बोलिए मन का आप खोये | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi

ऐसी वाणी बोलिए मन का आप खोये | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi

ऐसी वाणी बोलिए मन का आप खोये ।
औरन को शीतल करे, आपहुं शीतल होए ।

भावार्थ: कबीर दास जी कहते हैं कि इंसान को ऐसी भाषा बोलनी चाहिए जो सुनने वाले के मन को बहुत अच्छी लगे। ऐसी भाषा दूसरे लोगों को तो सुख पहुँचाती ही है, इसके साथ खुद को भी बड़े आनंद का अनुभव होता है।


aisee vaanee bolie man ka aap khoye .
auran ko sheetal kare, aapahum sheetal hoe .

bhaavaarth: kabeer daas jee kahate hain ki imsaan ko aisee bhaasha bolanee chaahie jo sunane vaale ke man ko bahut achchhee lage. aisee bhaasha doosare logom ko to sukh pahum chaatee hee hai, isake saath khud ko bhee bare aanand ka anubhav hota hai.

200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment