आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है: दोस्तों अपने हर बार आकाश कों देखेत होगे. जैसे असमान से बारिश होती है, आकाश में सूर्य दीखता है. और रात कों उसी आकाश में हमको सितारें और चाँद भी दिखाई देता है. लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है की आखिर आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है.

अगर आप भी इस प्रशन का जवाब ढूंड रहे है तो कोई बात सिर्फ आपको इस पोस्ट कों पढना है. क्यूकी इस पोस्ट में हमने आपके साथ आकाश नीला क्यों दिखाई देता है के बारे में बताया है. तो इस पोस्ट कों जरुर पूरा पढ़े.

आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

आकाश का रंग नीला क्यों दिखाई देता है

तो चलिए जानते है इसके पीछे क्या कारण होते आकाश के नील दिखने के.

सूर्य का श्वेत प्रकाश सात रंगों से मिलकर बना होता है| हम प्रकाश को तरंग ऊर्जा का रूप मान सकते हैं जिसमें विभिन्न रंगों का तरंगदैर्ध्य भिन्न-भिन्न होता है| इंद्रधनुष में मौजूद सात रंगों में लाल रंग का सबसे अधिक और नीले व बैंगनी रंग का तरंग दैर्ध्य सबसे कम होता है। नीले रंग का बिखराव लाल रंग की अपेक्षा अधिक होता है जिसके कारण आकाश नीला दिखाई देता है, यद्यपि क्षितिज की और नीला रंग कम होता जाता है क्योंकि क्षितिज से आ रहे प्रकाश को वायुमंडल में अधिक दूरी तय करनी होती है जिसके कारण अधिक बिखराव होता है और नीला रंग कम होता जाता है. तो इसी वजह से हम सभीको आकाश का रंग नीला दिखाई देता है.

समाप्त

तो उम्मीद है आपको समज आगया होगा की क्यू आकाश नीला क्यों दिखाई देता है, akash nila kyu dikhai deta hai और यह जानकारी आपको जरुर पसंत आई हो येसा हमे लगता है.

इसे जरुर पढ़े :

Leave a Comment