अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप | संत कबीर के दोहे – Kabir Ke Dohe

अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप | संत कबीर के दोहे – Kabir Ke Dohe


अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप

भावार्थ: कबीरदास जी कहते हैं कि ज्यादा बोलना अच्छा नहीं है और ना ही ज्यादा चुप रहना भी अच्छा है जैसे ज्यादा बारिश अच्छी नहीं होती लेकिन बहुत ज्यादा धूप भी अच्छी नहीं है।Advertisements


ati ka bhala n bolana, ati ki bhali n choop
ati ka bhala n barasana, ati ki bhali n dhoop

bhaavaarth: kabiradaas ji kahate hain ki jyaada bolana achchha nahin hai aur na hi jyaada chup rahana bhi achchha hai jaise jyaada baarish achchhi nahin hoti lekin bahut jyaada dhoop bhi achchhi nahin hai.


200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment