भाषा के कितने रूप होते हैं | Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain

भाषा के कितने रूप होते हैं, भाषा के कितने रूप है – Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain, Bhasha Ke Kitne Roop Hai : नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हिंदी व्याकरण के एक और पाठ में इस पाठ में हम आपके साथ भाषा के कितने भेद होते हैं के बारे में जानकारी देंगे. तो अगर आप भी Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain के बारे में जानकारी जानना चाहते हो तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पड़े क्योंकि इस पोस्ट में हमने आपके साथ भाषा किसे कहते हैं कि बारे में संपूर्ण जानकारी दे दी है.

अगर आपको किसी भी भाषा के बारे में जानना है तो आपको उस भाषा का व्याकरण आना जरूरी है. हिंदी व्याकरण में आपको भाषा के विविध रूप दिखाई देंगे जिससे कि आपको हिंदी ग्रामर के बारे में अच्छी तरह से जानने में मदद होगी. तो चलिए देखते है भाषा के कितने रूप होते हैं, Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain.

Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain

अगर आपको किसी भी प्रकार का संदेश आपसे सामने वाले व्यक्ति को समझाना चाहते हैं तो आपको भाषा आनी जरूरी है और भाषा के विविध प्रकार होते हैं जिससे इस्तेमाल करके आप आपके संदेश सामने वाले को बता सकते हैं.

भाषा किसे कहते हैं – Bhasha Kise Kahate Hain

सबसे पहले जानते है की भाषा किसे कहते हैं. भाषा एक ऐसा साधन होता है जिसका उपयोग करके आप आपके विचारों कों सामने वाले व्यक्ति को समझाया बता सकते हो.

भाषा के मुख्यतः तीन प्रकार है मौखिक भाषा, लिखित भाषा और सांकेतिक भाषा इस तीन रूपों का उपयोग करके आप आपके विचारों को सामने वाले व्यक्ति को बता सकते हो.

भाषा के बारे में अधिकतम जाने के लिए आपको इन तीन रूपों के बारे में जानना जरूरी है.

भाषा के कितने रूप होते हैं, भाषा के कितने रूप है – Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain, Bhasha Ke Kitne Roop Hai

आप जानते हैं कि भाषा के कौन से रूप है और उन रूप के बारे में जानकारी. ज्यादातर समय भाषा का उपयोग लिखित या मौखिक भाषा के रूप में किया जाता है.

मौखिक भाषा

मौखिक भाषा – भाषा का सबसे अहम रूप है. क्योंकि मौखिक भाषा का उपयोग आप आपके विचारों को सामने वाले को बोल कर समझा सकते हैं. इस रूप का ज्यादातर इस्तेमाल किया जाता है सामने वाले व्यक्ति को समझाने के लिए.

मुंह से बोलने वाली भाषा को मौखिक भाषा कहते हैं.

मतलब अगर आपको किसी को किसी चीज संबंधित जानकारी देनी है तो आप उसको बोल कर उस चीज के बारे में जानकारी दे सकते हैं उसे मौखिक भाषा कहते हैं.

लिखित भाषा

लिखित भाषा किसी भी विचारों को अन्य व्यक्ति को समझाने के लिए किया जाने वाला सबसे उपयोगी और अच्छा जरिया है. क्योंकि इसका उपयोग आप आपके विचारों को लिखकर सामने वाले व्यक्ति को समझा सकते हैं.

जैसे कि अगर आप किसी के बारे में हाल जानना चाहते हैं तो आप उन को पत्र लिखकर उनके हाल के बारे में जान सकते हैं जिससे कि सामने वाले व्यक्ति को आप आपकी भावना को पहुंचा सकते हैं.

और आपने देखा होगा कि इतिहास की सभी साहित्य आज लिखी स्वरूप में उपलब्ध है जिससे कि आने वाली पीढ़ी को आप के इतिहास के बारे में अच्छी जानकारी हो इसलिए इस भाषा का उपयोग इतिहास को संभाल कर रखने के लिए भी किया जाता है.

सांकेतिक भाषा

संकेतिक भाषा का उपयोग किसी भी विचारों को सामने वाले व्यक्ति को सांकेतिक रूप में समझे जाने वाली भाषा को सांकेतिक भाषा कहते हैं.

मतलब अगर आपको सामने वाले व्यक्ति को किसी चीज संबंधित जानकारी देना चाहते हो तो आप उनको एक विशिष्ट सांस्कृतिक रूप, इशारो में उस चीज के बारे में जानकारी दे सकते हैं.

आपने देखा होगा आज के जीवन में भी ऐसे बहुत सारे सांकेतिक भाषा का उपयोग किया जाता है जिससे कि आप सामने वाले व्यक्ति से बात कर सकते हैं. जैसे कि सीटी मार के.

समाप्त

तो यहां पर हमारी इस भाषा के कितने रूप होते हैं, भाषा के कितने रूप है – Bhasha Ke Kitne Roop Hote Hain, Bhasha Ke Kitne Roop Hai पोस्ट को समाप्त करते हैं उम्मीद है आपको भाषा के कितने रूप होते हैं इसी के साथ भाषा किसे कहते हैं के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी इसी तरह और भी अच्छी से अच्छी जानकारी जानने के लिए हमारे वेबसाइट को विजिट करते रहे क्योंकि हम आपके लिए ऐसे ही अच्छी से अच्छी जानकारी लाते रहेंगे

Leave a Comment