चलती चक्की देख के, दिया कबीरा रोये | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi

चलती चक्की देख के, दिया कबीरा रोये | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi


चलती चक्की देख के, दिया कबीरा रोये ।
दो पाटन के बीच में, साबुत बचा न कोए ।

भावार्थ: चलती चक्की को देखकर कबीर दास जी के आँसू निकल आते हैं और वो कहते हैं कि चक्की के पाटों के बीच में कुछ साबुत नहीं बचता।


chalatee chakkee dekh ke, diya kabeera roye.
do paat an ke beech mem, saabut bacha n koe.

bhaavaarth: chalatee chakkee ko dekhakar kabeer daas jee ke aam soo nikal aate hain aur vo kahate hain ki chakkee ke paat om ke beech mein kuchh saabut naheem bachataa.


200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment