महात्मा गांधी का जन्म कब और कहाँ हुआ था? – Gandhi ji Ka Janm Kab Hua Tha Aur Kahan Hua Tha

महात्मा गांधी का जन्म कब और कहाँ हुआ था? – Gandhi ji Ka Janm Kab Hua Tha Aur Kahan Hua Tha: जिसकी आपको पता होगा महात्मा गांधी जी को हम राष्ट्रपिता के नाम से जानते हैं क्योंकि उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ लड़कर हमारे भारत देश को आजाद बनाया था. वह एक अहिंसा वादी राष्ट्रपुरुष थे. उनकी देश के प्रति प्रेम भावना, आदर और सम्मान के वजह से ही उन को राष्ट्रपिता का दर्जा मिला है. आज हम उन्हीं के बारे में जानने वाले हैं कि महात्मा गांधी जी का जन्म कब हुआ था (Gandhi ji Ka Janm Kab Hua Tha Aur Kahan Hua Tha) तो अगर आप भी इसके बारे में जानकारी जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को जरुर पढ़ें.

Gandhi ji Ka Janm Kab Hua Tha Aur Kahan Hua Tha

भारत को स्वतंत्र बनाने के लिए उनका बहुत योगदान रहा है उन्होंने बहुत सारे सत्याग्रह की है जिसकी वजह से भारत स्वतंत्र देश बन पाया उनके साथ उनके समर्थन पर बहुत सारे क्रांतिवीर उनका साथ देते थे जिसकी वजह से वह भारत को स्वतंत्र कर पाए. महात्मा गांधी जी ने सबसे बड़ा कार्य यह किया कि उन्होंने प्रत्येक धर्म जाति और संप्रदाय को एक साथ बांधा. उनके समय पर लोग उनको बापू नाम से भी जानते थे जो कि पूरे भारत के राष्ट्रपिता है.

तो चलिए जानते हैं कि अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का जन्म कब हुआ था और कहां हुआ था.

महात्मा गांधी का जन्म कब और कहाँ हुआ था? – Gandhi ji Ka Janm Kab Hua Tha Aur Kahan Hua Tha

तो आपको बता दूं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था उनकी माता जी का नाम पुतलाबाई था और उनके पिताजी का नाम करमचंद गांधी था. महात्मा गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी है. उनका जन्म पोरबंदर राजकोट और बीकानेर के दीवान के घर में हुआ था. वह एक वैष्णव धर्म मानने वाले परिवार से ताल्लुक रखते थे.

महात्मा गांधी जी का पूरा नाम क्या है?

महात्मा गांधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी है उनको सभी लोग बापू नाम से जानते थे.

महात्मा गांधी जीवन परिचय – Mahatma Gandhi Jivan Parichay

सबसे पहले वह अफ़्रीका में सत्याग्रह करके महात्मा गांधी भारत में 1915 में आए थे और उसी साल भारत की स्वतंत्रता कि लड़ाई में कूद गए. उन्होंने अपने जीवन काल में बहुत सारे सत्याग्रह किए जिसके जिसकी वजह से किसानों, मजदूरों और श्रमिकों को अपना हक मिला. गांधी जी ने सन 1921 में अंग्रेजों के अत्याचारों का विरोध करते हुए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की भाग दौड़ सभाली.

गांधी जी ने अपने जीवन में अहिंसा और सत्य का पाठ पढ़ाते हुए भारतीय युवकों में भारत के प्रति आदर की भावना जगाई. वह भारत के सभी स्वतंत्र कार्यक्रमों में हिस्सा लेते थे. उन्होंने हमेशा अहिंसा से ही सभी लड़ाइयां लड़ी वह हिंसा के हमेशा खिलाफ थे. महात्मा गांधी जी का सबसे बड़ा सत्याग्रह नमक का सत्याग्रह है उन्होंने 1930 में ऐतिहासिक नमक सत्याग्रह में अंग्रेजो के खिलाफ भारतीय पर जो भी नमक संबंधित कर को हटाया. इसके लिए उन्होंनें उनके साबरमती आश्रम से लेकर दांडी गांव तक पैदल यात्रा की जिसकी वजह से अंग्रेजों को उनके सामने झुकना पड़ा उन्होंने किसानों के सभी नमक के कर हटा दिया.

इस आर्टिकल में हमने आपको

Leave a Comment