संपूर्ण हिंदी व्याकरण 2021 – Hindi Grammar

संपूर्ण हिंदी व्याकरण – Hindi Grammar: नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हिंदी सहयोग के एक और पाठ में इस पाठ में हम आपके साथ हिंदी का संपूर्ण ग्रामर से प्रस्तुत करेंगे यहां पर हम हिंदी व्याकरण के बारे में सभी प्रकार, भेद, उनकी परिभाषा के बारे में आपको परिचय करवाएंगे.

तो अगर आप भी Hindi Grammer जिसे हम Hindi Vyakaran कहते है उसके बारे में बतायेगे. तो अगर आप भी सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण सिखना चाहते हो तो इस पोस्ट कों आखिर तब पढ़े.

सबसे पहले जानते हैं व्याकरण क्यों सीखना चाहिए तो दोस्तों आपको बता दूं अगर आपको किसी भी भाषा का संपूर्ण ज्ञान चाहिए कि वह भाषा कैसे बोली जाती है वह भाषा की परिभाषा क्या है तो आपको उस भाषा का संपूर्ण व्याकरण के बारे में पता होना चाहिए.

तो चलिए शुरू करते …सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण – Hindi Grammar

सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण – Hindi Grammar

इस पाठ में हम Hindi Vyakaran को विस्तार से जानेंगे जहां पर हम आपको टॉपिक वाइज व्याकरण के बारे में बताएंगे. जिससे आपको हिंदी ग्रामर के बारे में अच्छी समझ हो जाए और आप भी हिंदी ग्रामर सिख पाए. जैसे यहां पर हम हर टॉपिक के बारे में आपको थोड़ा बताएंगे और अगर आपको उस टॉपिक के बारे में सम्पूर्ण जानकारी के लिए Click Here के बटन पर क्लिक करना है जिससे आप उस टॉपिक के बारे में विस्तार से जानता हूं.

वर्ण किसे कहते है ? स्वर, व्यंजन वर्ण – Hindi Grammar

वर्ण- 

वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं, जिसके खंड या टुकड़े नहीं किये जा सकते। जैसे- अ, ई, व, च, क, ख् इत्यादि।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

संज्ञा किसे कहते है – Hindi Grammar

संज्ञा उस विकारी शब्द को कहते है, जिससे किसी विशेष वस्तु, भाव और जीव के नाम का बोध हो, उसे संज्ञा कहते है। 

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

सर्वनाम हिंदी ग्रामर -Hindi Grammar

सर्वनाम का अर्थ होता है – सब का नाम। जो शब्द संज्ञा के नामों की जगह प्रयुक्त होते हैं उसे सर्वनाम कहते हैं। अथार्त संज्ञा के स्थान पर प्रयुक्त होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते हैं अथार्त भाषा को प्रभावशाली बनाने के लिए जो शब्द संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किये जाते हैं उसे सर्वनाम कहते हैं।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

वाक्य की परिभाषा – Hindi Grammar

वह शब्द समूह जिससे पूरी बात समझ में आ जाये, ‘वाक्य’ कहलाता हैै।
दूसरे शब्दों में- विचार को पूर्णता से प्रकट करनेवाली एक क्रिया से युक्त पद-समूह को ‘वाक्य’ कहते हैं। 
सरल शब्दों में- सार्थक शब्दों का व्यवस्थित समूह जिससे अपेक्षित अर्थ प्रकट हो, वाक्य कहलाता है।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

हिंदी पर्यायवाची शब्द – Hindi Grammar

‘पर्याय’ का अर्थ है- ‘समान’ तथा ‘वाची’ का अर्थ है- ‘बोले जाने वाले’ अर्थात जिन शब्दों का अर्थ एक जैसा होता है, उन्हें ‘पर्यायवाची शब्द’ कहते हैं। 

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

भाषा / परिभाषा किसे कहते है

भाषा वह साधन है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर व पढ़कर अपने मन के भावों या विचारों का आदान-प्रदान करता है। 

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

लिपि किसे कहते है

आसान भाषा में कहे तो लिपि कों किसी भाषा की लिखावट या फिर से लिखने के प्रणाली कों लिपि कहा जाता है

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

अलंकार की परिभाष

जो किसी वस्तु को अलंकृत करे वह अलंकार कहलाता है।

दूसरे अर्थ में– काव्य अथवा भाषा को शोभा बनाने वाले मनोरंजक ढंग को अलंकार कहते है।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

वचन किसे कहते है

वचन का शब्दिक अर्थ संख्यावचन होता है। संख्यावचन को ही वचन कहते हैं। वचन का एक अर्थ कहना भी होता है

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

Tense in Hindi with Definition ( Future, Present, Past )

काल का अर्थ होता है- समय। क्रिया के जिस रूप से कार्य के होने के समय का पता चले उसे काल कहते हैं। दूसरे शब्दों में कार्य- व्यापार का समय और उसकी पूर्ण और अपूर्ण अवस्था के ज्ञान के रूपांतरण को काल कहते हैं।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

शब्द विचार ( shabd vichar ) परिभाषा

एक या एक से अधिक वर्णों से बनी हुई स्वतंत्र सार्थक ध्वनि शब्द है। जैसे- एक वर्ण से निर्मित शब्द- न (नहीं) व (और) अनेक वर्णों से निर्मित शब्द-कुत्ता, शेर, कमल, नयन, प्रासाद, सर्वव्यापी, परमात्मा आदि।

इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

संधि विच्छेद की परिभाषा

संधि में पदों को मूल रूप में पृथक कर देना संधि विच्छेद हैैै। जैसे- धनादेश = धन + आदेश
यहाँ पर कुछ प्रचलित संधि विच्छेदों को दिया जा रहा है, जो की विद्यार्थियों के बड़े काम आएगी।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

Ras in Hindi 

रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनंद’ । काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनंद की अनुभूति होती है, 

उसे ‘रस’ कहा जाता है।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

अव्यय की परिभाषा

किसी भी भाषा के वे शब्द अव्यय कहलाते हैं जिनके रूप में लिंग, वचन, पुरुष, कारक, काल इत्यादि के कारण कोई विकार उत्पत्र नहीं होता।

इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

विलोम शब्द – विपरीतार्थक शब्द

विलोम का अर्थ होता है उल्टा। जब किसी शब्द का उल्टा या विपरीत अर्थ दिया जाता है उस शब्द को विलोम शब्द कहते हैं अथार्त एक – दूसरे के विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्दों को विलोम शब्द कहते हैं। इसे विपरीतार्थक शब्द भी कहते हैं।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

अनेकार्थी शब्द 

एक से अधिक अर्थ प्रदान करने वाले शब्दों को अनेकार्थी शब्द कहते हैं. इन शब्दों का प्रसंग बदलने पर अलग-अलग अर्थ निकलता हैं.

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

अनेक शब्दों के एक शब्द परिभाषा – उदाहरण

हिंदी शब्दों में अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द का प्रयोग कर सकते हैं। अथार्त हिंदी भाषा में कई शब्दों की जगह पर एक शब्द बोलकर भाषा को प्रभावशाली बनाया जा सकता है।

  • इस पाठ कों पूरा सिखने के लिए : Click Here

Final Words

तो दोस्तों यहां पर हमारी सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण – Hindi Grammar का ज्ञान की पोस्ट को समाप्त करते आशा करते हम आपको Hindi Grammer जिसे हम Hindi Vyakaran के बारे में सभी प्रकार की सहायता कर पाए इस पोस्ट को जानकर आप हिंदी ग्रामर के बारे में सभी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

दोस्तों इस पोस्ट में हमसे कोई हिंदी ग्रामर की कोई प्रकार की आप भी छूट गया हो तो आप हमें कमेंट में बता सकते हैं हम आपको उसके बारे में जरूर रिप्लाई देंगे और जितनी हो सके तो अपनी जानकारी आपके साथ शेयर करेंगे इसलिए आप नीचे कमेंट करना ना भूलें.

Leave a Comment