जहाँ दया तहा धर्म है, जहाँ लोभ वहां पाप | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi

जहाँ दया तहा धर्म है, जहाँ लोभ वहां पाप | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi


जहाँ दया तहा धर्म हैजहाँ लोभ वहां पाप 
जहाँ क्रोध तहा काल हैजहाँ क्षमा वहां आप 

भावार्थ:- कबीर दास जी कहते हैं कि जहाँ दया है वहीँ धर्म है और जहाँ लोभ है वहां पाप है, और जहाँ क्रोध है वहां सर्वनाश है और जहाँ क्षमा है वहाँ ईश्वर का वास होता है।


jahaan daya taha dharm hai, jahaan lobh vahaan paap .

jahaan krodh taha kaal hai, jahaan kshama vahaan aap .

bhavarth:- kabeer daas jee kahate hain ki jahaan daya hai vaheen dharm hai aur jahaan lobh hai vahaan paap hai, aur jahaan krodh hai vahaan sarvanaash hai aur jahaan kshama hai vahaan eeshvar ka vaas hota hai.volume_up

200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment