जल में बसे कमोदनी, चंदा बसे आकाश | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi

जल में बसे कमोदनी, चंदा बसे आकाश | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in hindi


जल में बसे कमोदनीचंदा बसे आकाश 
जो है जा को भावना सो ताहि के पास 

भावार्थ:- कमल जल में खिलता है और चन्द्रमा आकाश में रहता है। लेकिन चन्द्रमा का प्रतिबिम्ब जब जल में चमकता है तो कबीर दास जी कहते हैं कि कमल और चन्द्रमा में इतनी दूरी होने के बावजूद भी दोनों कितने पास है। जल में चन्द्रमा का प्रतिबिम्ब ऐसा लगता है जैसे चन्द्रमा खुद कमल के पास आ गया हो। वैसे ही जब कोई इंसान ईश्वर से प्रेम करता है वो ईश्वर स्वयं चलकर उसके पास आते हैं।


jal mein base kamodanee, chanda base aakaash .

jo hai ja ko bhaavana so taahi ke paas

bhaavaarth:- kamal jal mein khilata hai aur chandrama aakaash mein rahata hai. lekin chandrama ka pratibimb jab jal mein chamakata hai to kabeer daas jee kahate hain ki kamal aur chandrama mein itanee dooree hone ke baavajood bhee donon kitane paas hai. jal mein chandrama ka pratibimb aisa lagata hai jaise chandrama khud kamal ke paas aa gaya ho. vaise hee jab koee insaan eeshvar se prem karata hai vo eeshvar svayan chalakar usake paas aate hain.jo hai ja ko bhaavana so taahi ke paas


200+ संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहितClick Here

Leave a Comment