कबीरा सोई पीर है, जो जाने पर पीर | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in Hindi

कबीरा सोई पीर है, जो जाने पर पीर | कबीर के दोहे – Kabir ke dohe in Hindi


कबीरा सोई पीर है, जो जाने पर पीर ।
जो पर पीर न जानही, सो का पीर में पीर ।

भावार्थ: कबीर दास जी कहते हैं कि जो इंसान दूसरे की पीड़ा और दुःख को समझता है वही सज्जन पुरुष है और जो दूसरे की पीड़ा ही ना समझ सके ऐसे इंसान होने से क्या फायदा।


kabira soi pir hai, jo jaane par pir .
jo par pir n jaanahi, so ka pir mein pir .

bhaavaarth: kabir daas ji kahate hain ki jo imsaan doosare ki pira aur duh kh ko samajhata hai vahi sajjan purush hai aur jo doosare ki pira hi na samajh sake aise imsaan hone se kya phaayadaa


200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment