पर्यावरण किसे कहते हैं? – Paryavaran Kise Kahate Hain

पर्यावरण किसे कहते हैं (Paryavaran Kise Kahate Hain) : दोस्तों आज हम जानने वाले है की पर्यावरण की परिभाषा क्या है. तो अगर आप भी इसीके बारे में जानकारी सर्च कर रहे है तो इस पोस्ट कों जरुर अंत तक पढ़े क्यूकी इस पोस्ट में हमने आपके साथ पर्यावरण जानकारी शेयर की है.

इस पोस्ट में जानगे :

  • पर्यावरण किसे कहते हैं?
  • Paryavaran Kise Kahate Hain
  • पर्यावरण की परिभाषा

पर्यावरण किसे कहते हैं? – Paryavaran Kise Kahate Hain

पर्यावरण शब्द का अर्थ जाने तो पर्यावरण शब्द ‘परि’ और ‘आवरण’ इन दो शब्दों कों मिलकर बना है। परि का अर्थ चारों दिशाओ ओर व आवरण का अर्थ घेरा होता है. अर्थात् हमारे चारों दिशाओं ओर जो कुछ भी वस्तु, जंगल, फूल, पक्षी है वह हि पर्यावरण है. आसान भाषा में समझे तो जो हमारे चारों तरफ जीव-जंतु, वायु, जय, प्रकाश, जंगल, धरती, आकाश है उसे ही पर्यावरण कहा जाता है.

Paryavaran Meaning in Hindi – Environment

पर्यावरण किसे कहते हैं? - Paryavaran Kise Kahate Hain

पर्यावरण की परिभाषा – Paryavaran Ki Paribhasha

पर्यावरण को एक ऐसा क्षेत्र कह सकते हैं जिसमें बहुत सारी जीवन संबंधित क्रिया प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से होती है और इसके साथ कई भौतिक और जैविक जीवधारी रहते हैं वह बढ़ते हैं और अपनी स्वाभाविक प्रकृति का विकास करते हैं.

आज के जीवन में मानव के कारण पर्यावरण में बहुत ही दुष्परिणाम हो रहे हैं इसकी वजह से पर्यावरण की बुद्धि बढ़ती जा रही है जिसके कारण आज पर्यावरण बोहत हि अस्थुल हो गया है. लेकिन आज 20 वी शताब्दी में भी हम मानव पर्यावरण पर ही निर्भर है क्योंकि आज तक मानव पर्यावरण को मात नहीं दे पाया है.

पर्यावरण के घटक

वैसे तो बहुत सारे घटक है लेकिन उसमें दो मुख्य घटक है.

प्राकृतिक घटक और मानव निर्मित घटक.

प्राकृतिक घटक

प्राकृतिक घटक में जैविक और अजैविक घटक आते हैं जैविक घटक की बात करें तो इसमें सभी प्राणी पशु पक्षी एवं जंतु आते हैं और अजैविक घटक जिसमें निर्जीव वस्तुएं रहती है जैसे कि स्थान, जल, प्रकाश, वायु, मुद्रा.

मानव निर्मित घटक –

मानव निर्मित घटक की बात करें तो जो भी मानव द्वारा बनाई गई वस्तु एवं जो भी संसाधने है उसे मानव निर्मित घटक कहा जाता है जैसे कि उद्योग, इमारत, पूल, गाड़ी.

पर्यावरण का महत्व

अब जानते हैं कुछ पर्यावरण के महत्व के बारे में –

  • आपको पता होगा मानव कितनी भी प्रगति कर ले लेकिन आज भी वह पर्यावरण पर ही निर्भर है जैसे कि पर्यावरण से हमें जल, वायु, वृक्ष एवं खाना मिलता है.
  • पर्यावरण से ही हमको वायु मिलती है जिससे कि हमारे जीवन में महत्व है.
  • आज की जीवन में आप देखते होंगे कि पर्यावरण दूषित होने के कारण मानव जीवन पर भी घुस के बहुत बड़े दुष्परिणाम हो रहे हैं इसलिए हमें पर्यावरण संबंधित जागृति करनी होगी.
  • पर्यावरण का महत्वपूर्ण क्षेत्रों में शिक्षा द्वारा पहुंचाना चाहिए जिस क्षेत्र में ज्यादातर पर्यावरण पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता.
  • अगर आप चाहते हैं तो आपको कभी भी बारिश संबंधित समस्या नहीं आएगी क्योंकि आपने देखा होगा जिसे तरह में पर्यावरण मतलब जिस क्षेत्र में वन कम रहते है उस क्षेत्र में बारिश का प्रभाव कम रहता है.
  • अगर आप आज के जीवन में पर्यावरण बचाते हो तो आपको जनसंख्या वृद्धि की समस्या से छुटकारा मिल सकता है.

पर्यावरण का महत्त्व – हमारा मत

दोस्तों जैसे कि आपको पता होगा आज के दिनों में पर्यावरण पर बहुत ही बड़े संकट आ गए हैं और पर्यावरण की बुद्धि धीरे-धीरे कम होती जा रही है जिससे कि मानव पर बहुत उसके दुष्परिणाम होते जा रहे हैं जिसके आपको पता होगा बड़े बड़े क्षेत्र सूख रहे हैं बारिश नहीं हो पा रही है.

क्योंकि दोस्तों आपको बता देता हूं कि जिस क्षेत्र में वन मतलब जंगलों की स्थिति कम रहती है उसे क्षेत्र में बारिश भी कम होती हैं और आपको पता ही होगा आज भी मानव बारिश पर ही निर्भर है और अपनी खेती बाड़ी बारिश पर ही करता है इसलिए हमको पर्यावरण को बचाना चाहिए.

पर्यावरण संबंधित आपका मत क्या है हमें कमेंट में जरूर बताना

तो दोस्तों यहां पर हम हमारी इस पर्यावरण किसे कहते हैं, Paryavaran Kise Kahate Hain पोस्ट को समाप्त करते हैं उम्मीद है आपको पर्यावरण संबंधित अच्छी और सभी जानकारी आपके साथ शेयर कर पाए इसी के साथ यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताना और इस पर्यावरण की परिभाषा, Paryavaran Ki Paribhasha पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले.

Leave a Comment