समास के कितने भेद होते है | Samas Ke Kitne Bhed Hote Hain

Samas Ke Kitne Bhed Hote Hain: समास एक हिंदी व्याकरण का एक अंग है. सभी भाषाएं व्याकरण से बनी है और व्याकरण से बिना किसी भी भाषाओं को इस्तेमाल किया नहीं जा सकता. इस हिंदी व्याकरण के पाठ में हम समास किसे कहते है और समास के कितने भेद होते है के बारे में जानकारी प्राप्त करगे. तो चलिए चलते है.

समास किसे कहते है

हिंदी व्याकरण में समास को आसान भाषा में समजे तो समास का अर्थ होता है दो शब्दों का एक शब्द. इसका मतलब किसी भी दो शब्दों से बनाए हुए शब्दों को आप समास के सकते हैं. समास कों समस्तपद भी कहा जाता है.

Samas Ke Kitne Bhed Hote Hain

समास शब्द का शाब्दिक अर्थ जाने तो समास कों संक्षेप करना कहा जाता है.

जैसे – राज्यकन्या शब्द कों हम एक समास शब्द है जिसमें राज्य अलग और कन्या अलग शब्द है इसे दोनों शब्दों के मिलाकर राज्यकन्या इस एक शब्द की उत्पत्ति की जाती है इसे हम समास कहते हैं.

इसे पढ़े : सम्पूर्ण व्याकरण ( Hindi Grammar )

उम्मीद है आपको अभी तक समास किसे कहते हैं के बारे में जानकारी प्राप्त हो गए हो अब जानते हैं समाज के कितने भेद हैं/Samas Ke Kitne Bhed Hote Hain.

समास के कितने भेद होते है | Samas Ke Kitne Bhed Hote Hain

समास के पुरे 6 भेद है लेकिन 4 हि मुख्य भेद है.

समास के भेद –

  1. अव्ययीभाव समास
  2. तत्पुरुष समास
  3. द्विगु समास
  4. द्वन्द्व समास
  5. बहुव्रीहि समास
  6. कर्मधारय समास

इसे जरुर पढ़े :

तो दोस्तों यहां पर हम हमारे हिंदी ग्रामर के इस संस्कृत भाषा की लिपि क्या है पाठ को समाप्त करते हैं आशा करते हैं कि आपको Sanskrit Bhasha Ki Lipi Kya Hai के बारे में संपूर्ण जानकारी बता पाए अगर आपको हिंदी में संबंधित कोई भी जानकारी चाहिए तो आप हमारे हिंदी व्याकरण के समस्त पोस्ट को जरूर पढ़ें और हमें कमेंट में यह बताएं कि आपको इस जानकारी कों पढ़कर कैसा लगा.

Leave a Comment