विधायक कैसे बनें? – वेतन, अधिकार और योग्यता

विधायक कैसे बनें – MLA यानी विधायक किसी भी शहर का एक बहुत powerful व्यक्ति होता है। MLA के पास कई powers होती हैं जिनका इस्तेमाल वो जनता की भलाई के लिए करता है ताकि उसके शहर की जनता को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो और वो आज़ादी से अपनी ज़िन्दगी जी सकें।

बहुत से का विधायक के बारे में बहुत कुछ जानना चाहते हैं और कुछ लोग तो विधायक बनाना भी चाहते हैं। तो अगर आप विधायक के बारे में सब कुछ जानना चाहते हैं या विधायक बनाना चाहते हैं तो आपको इस article को अंत तक जरूर पढ़ना चाहिए। क्योंकि इस article में हम आपको बताएंगे की विधायक कौन होता है, विधायक की powers क्या होती हैं, विधायक को salary (वेतन) कितनी मिलती है और विधायक कैसे बनें?

विधायक कौन होता है? विधायक को चुनते कैसे हैं?

विधायक को अंग्रेजी में MLA कहते हैं और MLA की full form होती है Member of Legislative Assembly. MLA को विधायक इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये विधानसभा का सदस्य होता है।

भारत देश में जनसंख्या के आधार पर हर एक राज्य को अलग-अलग constituencies (निर्वाचन क्षेत्रों) में बांटा गया है जिनमे हर पांच साल बाद विधायक के चुनाव होते हैं।

vidhayak kaise bane

किसी भी एक निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव के लिए कितने भी उम्मीदवार खड़े हो सकते हैं। और जरूरी नहीं है की उम्मीदवार किसी राजनीतिक दल का हो। MLA के चुनाव में स्वतंत्र व्यक्ति भी खड़े हो सकते हैं। स्वतंत्र मतलब ऐसे व्यक्ति जिनका किसी भी राजनीतिक दल से कोई भी सम्बंध नहीं है। और ऐसे स्वतंत्र उम्मीदवार को निर्दलीय उम्मीदवार कहा जाता है।

अगर कोई उम्मीदवार किसी निर्वाचन क्षेत्र से जीत जाता है तो वह अपने निर्वाचन क्षेत्र का विधायक बन जाता है।

विधायकों की राज्य सरकार को बनाने में बहुत अहम भूमिका होती है। अगर किसी भी सरकार को किसी राज्य में अपनी सरकार बनाए रखनी है तो उन्हें विधायकों की आवश्यकता होती है क्योंकि राज्य सरकार बनाने में विधायक ही मदद करते हैं।

जिस भी सरकार के पास सबसे ज़्यादा विधायकों का समर्थन होता है वो ही सरकार राज्य में अपनी सरकार बनाती है। अगर कोई व्यक्ति मुख्यमंत्री बनाना चाहता है तो पहले उसे किसी एक जिले में विधायक बनाना जरूरी है।

विधायक बनने के लिए योग्यता

विधायक बनने के लिए जिन-जिन योग्यताओं की आवश्यकता होती है  योग्यताएं निचे दी गयी हैं। अगर आप विधायक बनाना चाहते हैं तो आपमें नीचे दी गयी सभी योग्यताओं का होना आवश्यक है और अगर आपमें निचे दी हुई योग्यताओं में कोई योग्यता नहीं है तो आपको उस योग्यता को अपने अंदर विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।

तो आइये जानते हैं की विधायक बनने के लिए आपमें कौन-कौन सी योग्यताएं होनी आवश्यक हैं।

  1. विधायक के चुनाव में खड़ा होने वाला व्यक्ति भारत का निवासी होना चाहिए।
  2. विधायक के चुनाव में खड़े होने वाले व्यक्ति की उम्र 25 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  3. विधायक की समझ और सोचने-विचारने की शक्ति तेज होनी चाहिए और वे मानसिक रूप से दुरुस्त होना चाहिए।
  4. विधायक बनने वाला व्यक्ति किसी भी सरकारी नौकरी में नहीं होना चाहिए।
  5. विधायक बनने के लिए candidate का नाम राज्य के किसी एक निर्वाचन क्षेत्र की मतदाता की सूची में होना जरूरी है।
  6. Candidate किसी भी प्रकार का अपराधी नहीं होना चाहिए या उसपर किसी भी प्रकार का कोई आरोप नहीं होना चाहिए। अगर candidate आरोपी होता है तो उसे इस बात का स्पष्टीकरण election के समय देना होगा।
  7. Candidate दिवालिया (bankrupt) नहीं होना चाहिए।

विधायक कैसे बनें –

विधायक बनने के लिए आप निचे दिए गए steps को follow कर सकते हैं।

किसी राजनितिक दल को Join करें

अगर आप विधायक बनाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको किसी भी मशहूर और लोकप्रिय राजनितिक दल को join हो जाना चाहिए। आप चाहें तो अकेले भी चुनाव में खड़े हो सकते हैं और निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं। लेकिन निर्दलीय चुनाव में जीत मिलने की संभावना बहुत कम होती है। निर्दलीय चुनाव लड़ने वाला व्यक्ति के जितने की संभावना बहुत कम इसलिए होती है क्योंकि उसे ज्यादा लोग जानते नहीं हैं और अगर लोग उसे जानेंगे ही नहीं तो वो उसे वोट कैसे देंगे। और अगर आप अकेले चुनाव में खड़े होते हैं तो आपको खुद की publicity करने में भी काफी कठिनाई होती है। निर्दलीय व्यक्ति चुनाव तब जीतता है जब वह अपने क्षेत्र में बहुत मशहूर हो।

अगर आप किसी मशहूर राजनितिक दल को join कर लेते हैं तो इससे आपके जितने की संभावना काफी बढ़ जाती है क्योंकि कोई भी राजनितिक दल पहले से बना होता है और उसे चुनाव को जितने के बारे में काफी अनुभव होता है और वो यह भी जानता है की चुनाव को जितने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है और चुनाव में लोगों के वोट पाने के क्या रणनीति बनानी होती है।
अगर आप किसी राजनितिक दल को join करना चाहते हैं तो कोशिश करें की आप उस राजनितिक दल को join कर सकें जो की आपके क्षेत्र में प्रसिद्ध हो और जिस दल को लोग ज्यादा पसंद करते हों इससे आपके जितने की संभावना और भी बढ़ जाती है।

और अगर आप राजनीति में सफलता पाना चाहते हैं तो सबसे पहले आप किसी एक राजनीतिक दल को join कर लें और उसके official member बन जाएँ।

समाज सेवी बनें और लोकप्रियता बढ़ाएं

एक अच्छा और प्रसिद्ध नेता बनने के लिए सबसे जरूरी काम जो किसी इंसान को करना चाहिए वो है समाज सेवा यानी दूसरों की मदद। राजनितिक दल को join करने के बाद आपको दूसरे लोगों की मदद करनी है। अगर आप दूसरे लोगों की मदद करेंगे तभी आप जनता की नज़रों में आएंगे।

और ऐसा जरूरी नहीं है की जनता की मदद करने के लिए आपके पास पैसे होने चाहिए। अगर आपके पास पैसे नहीं हैं तब भी आप समाज सेवा कर सकते हैं। ऐसी बहुत सी मदद हैं जो की आप बिना पैसों के भी कर सकते हैं। जैसे – अगर सरकार ने कोई नयी योजना शुरू करी है तो आप उस योजना से सम्बंधित जानकारी लोगों तक पहुंचा सकते हैं, अपने राजनीतिक दल के साथ मिलकर आप लोगों की कई प्रकार से मदद कर सकते हैं जैसे अगर उन्हें सरकारी काम में किसी प्रकार की कोई दिक्कत आ रही है और उनका काम नहीं हो रहा है तो आप उनका काम पूरा करवाने में मदद कर सकते हैं।

सर्दियों के समय में आप लोगों को कंबल व रजाइयां दे सकते हैं, गर्मियों के समय में आप जगह-जगह पानी पिलाने के मुफ्त छबील शुरू कर सकते हैं। मजदूरों से संपर्क करें और उनसे उनकी समस्याओं को समझने की कोशिश करें और उनकी समस्या को हल भी करें।

ऐसे कई अलग-अलग तरीकों से आप उन लोगों की मदद कर सकते हैं। इससे होगा ये की अगर आप लोगों की मदद करेंगे तो लोग आपको जानेंगे और उनके दिमाग में आपके बारे में एक अच्छी छवि बन जाएगी जो की आपको चुनाव में वोट प्राप्त करने में मदद करेगी।

Party से चुनाव टिकट मांगे

चुनाव लड़ने के लिए आपको चुनाव टिकट की जरूरत होती है अगर आपके पास चुनाव टिकट है तभी आप चुनाव में खड़े हो सकते हैं अन्यथा आप चुनाव में खड़े नहीं हो सकते हैं।

आपने जिस भी राजनितिक party को join करा है उस राजनितिक party से आपको खुद के लिए चुनावी टिकट मांगना होगा अगर वो पार्टी आपको चुनाव टिकट दे देती है तो आप चुनाव में खड़े हो सकते हैं।

चुनाव टिकट प्राप्त करने के लिए आपको अच्छे-अच्छे काम करते रहने है और आपको अपने पार्टी के बड़े नेताओं की नज़र में बने रहना है ताकि वो आपको जाने और आपको चुनाव टिकट मिलने में किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो। चुनाव टिकट लेने के लिए आपको पार्टी के पास जाने की जरूरत नहीं है बल्कि पार्टी आपके पास खुद आएगी और आपको चुनावी टिकट देगी।

चुनावी टिकट पाने के लिए आपको बहुत active रहना होगा और समाज के लिए काम करते रहना होगा। आप लोगों के साथ जुड़ने के लिए social media का इस्तेमाल कर सकते हैं और वहां पर भी उनकी परेशानियों के बारे में जान कर उनका हल करफ्के उनकी मदद कर सकते हैं।

बिना चुनाव टिकट के चुनाव कैसे लड़ें?

आप बिना चुनाव टिकट के भी चुनाव लड़ सकते हैं। आप निर्दलीय चुनाव बिना चुनाव टिकट के लड़ सकते हैं। निर्दलीय चुनाव लड़ना आसान होता है मगर निर्दलीय चुनाव को जितने के लिये आपके पास एक बेहतरीन तरकीब होनी चाहिए। अगर आप बिना कुछ ख़ास करे या बिना सोचे समझे निर्दलीय चुनाव लड़ते हैं तो आपके जितने की संभावना बहुत ही कम होती है।

चुनाव लड़िये और जीतिए

अब आखरी और मुख्य चुनौती चुनाव को लड़ कर जीतने की होती है। चुनाव में खड़ा होना जितना मुश्किल होता है उससे ज़्यादा मुश्किल चुनाव को जितना होता है।

चुनाव को जीतने के लिए आपके पास दो चीज़ें होनी चाहिए पहला लोकप्रियता (popularity) और दूसरा पैसा (fund).

Popularity से लोग आपको जानेंगे और पैसे से आप अपनी party या फिर अपनी खुद की publicity कर सकते हैं जिसके कारण जिस क्षेत्र से आप खड़े हुए हैं उसके लोग आपको जानेंगे और आपको वोट मिलने में आसानी होगी।

विधायक बनने के लिए चुनाव प्रक्रिया

अगर आप विधायक बनना चाहते हो तो इसके लिए आपको विधायक बनने की चुनाव प्रक्रिया को समझना अत्यंत आवश्यक है। नीचे चुनाव प्रक्रिया के बारे में बताया गया है।

  1. हर 5 साल के बाद विधायक के चुनाव होते हैं।
  2. जनसंख्या के आधार पर हर राज्य को विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों में बांटा गया है। 
  3. भारत के किसी भी चुनाव में 18 या 18 वर्ष से अधिक आयु वाला व्यक्ति ही वोट दे सकता है और विधायक के चुनाव में भी 18 या 18 वर्ष से अधिक उम्र वाला व्यक्ति ही वोट दे सकता है।
  4. विधायक के चुनाव में खड़े होने के लिए एक निर्वाचन क्षेत्र से 1 से अधिक उमीदवार भी खड़े हो सकते हैं।
  5. ऐसा जरूरी नहीं है की चुनाव में खड़े उम्मीदवार का किसी राजनितिक दल से संबंध हो। उम्मीदवार स्वतंत्र रूप से भी चुनाव लड़ सकता है।
  6. जिस निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार खड़ा होता है केवल उसी निर्वाचन क्षेत्र के व्यक्ति उसे वोट दे सकते हैं। उस क्षेत्र के बहार के व्यक्ति उसे वोट नहीं दे सकते हैं।
  7. Elected विधायक विधान सभा में अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्र को represent करते हैं।
  8. अब तो भारत के हर election में EVM (Electronic Voting Machine) का प्रयोग किया जाता है। और इसलिए विधायक के चुनाव भी EVM machine द्वारा ही कराये जाता हैं।
  9. मतदान (voting) गुप्त रूप से की जाती है यानी vote देने वाले व्यक्ति के आलावा किसी को पता नहीं होता है की उसने किस उम्मीदवार को vote दिया है।

विधायक के काम/अधिकार क्या होते हैं?

  1. किसी भी नेता का सबसे प्रथम कार्य होता है की वह अपनी जनता को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न होने दे। और यही काम विधायक का भी होता है। विधायक को इस बात का ध्यान रखना होता है की उसकी जनता को किसी प्रकार की कोई समस्या न हो और अगर उसकी जनता को कोई समस्या है तो ये विधायक का फ़र्ज़ बनता है की वो उस समस्या का हल करे।
  2. विधायक सरकार की तरफ से मिले हुए fund द्वारा अपने क्षेत्र का विकास करता है।
  3. सरकार द्वारा शुरू की नयी-नयी योजनाओं के बारे में जनता तक जानकारी पहुंचाने का कार्य भी विधायक का ही होता है।
  4. विधायक के पास ये अधिकार होता है की वो अपने क्षेत्र में कार्यालय खोल सकता है।
  5. विधायक का ये भी काम होता है की वो क़ानून की योजना बनाये, उनको पढ़े, उन पर चर्चा करे और कानूनों के अधिनियम को support करे।
  6. सदन में सवाल-जवाब करने का अधिकार भी विधायक का ही होता है।

विधायक का वेतन और भत्त (Allowance)

MLA को हर महीने निश्चित वेतन दिया जाता है। और भारत देश में हर राज्य के MLA का वेतन अलग-अलग होता है।

  1. भारत में सबसे अधिक वेतन तेलंगाना राज्य के MLA को मिलता है जो की है 2,50,000 रुपये महीना और सबसे कम वेतन त्रिपुरा राज्य के MLA को मिलता है जो की है 34,000 रुपये महीना।
  2. वेतन के अलावा विधायक को पेट्रोल व डीज़ल के खर्चे के लिए अलग से 24,000 रुपये भी दिए जाते हैं।
  3. अगर विधायक बीमार है तो उसके इलाज़ के लिए हर महीने उसे 6000 रुपये मिलते हैं और साथ ही फ़ोन के बिल के लिए भी 6000 रुपये हर महीने सरकार द्वारा विधायक को दिए जाते हैं।
  4. इन सब फायदों के अलावा विधायक को सफर में भी सुविधा दी जाती है यानी विधायक अगर रेल गाड़ी में सफर कर रहा है तो वो अपने साथ अपने एक रिश्तेदार को मुफ्त में ले जा सकता है।
  5. जब विधायक 5 साल बाद retire हो जाता है तब उसे हर महीने 30,000 रुपये पेंशन के तौर पर मिलते हैं और इसके अलावा 8 हज़ार रुपये डीज़ल व पेट्रोल के लिए भी मिलते हैं।
  6. विधायक को पुरे साल में लगभग 7.5 करोड़ का fund दिया जाता है जो की जानता की भलाई और विधायक के निर्वाचन क्षेत्र को विकसित करने के लिए दिया जाता है।

कुल मिलाकर एक विधायक को हर महीने 1,87,000 रुपये की धनराशि और लाभ प्राप्त होते हैं।

निष्कर्ष

इस article में हमने MLA से संबंधित सारी जानकारी दे दी है और इसके अलावा हमने ये भी बता दिया है की विधायक कैसे बने?

विधायक बनने के फायदे तो बहुत हैं लेकिन विधायक बनने के लिए मेहनत भी बहुत करनी पड़ती है तो अगर आप विधायक बनना चाहते हैं तो आपको कठिन परिश्रम करना होगा।

अगर आपको इस article से कुछ ज्ञान प्राप्त हुआ हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ share जरूर करें।

Leave a Comment