कबीर तन पंछी भया, जहां मन तहां उडी जाइ | संत कबीर के दोहे – Sant Kabir Ke Dohe

कबीर तन पंछी भया, जहां मन तहां उडी जाइ | संत कबीर के दोहे – Sant Kabir Ke Dohe


कबीर तन पंछी भया, जहां मन तहां उडी जाइ।
जो जैसी संगती कर, सो तैसा ही फल पाइ।

भावार्थ: कबीर कहते हैं कि संसारी व्यक्ति का शरीर पक्षी बन गया है और जहां उसका मन होता है, शरीर उड़कर वहीं पहुँच जाता है। सच है कि जो जैसा साथ करता है, वह वैसा ही फल पाता है।


kabir tan panchhi bhaya, jahaam man tahaam udi jaai.
jo jaisi sangati kara, so taisa hi phal paai.

bhaavaarth: kabir kahate hain ki samsaari vyakti ka sharir pakshi ban gaya hai aur jahaam usaka man hota hai, sharir urakar vahim pahum ch jaata hai. sach hai ki jo jaisa saath karata hai, vah vaisa hi phal paata hai.


200संत कबीर के दोहों का संग्रह अर्थ सहित –Click Here

Leave a Comment